KAL KA SAMRAT NEWS INDIA

हर नजरिए की खबर, हर खबर पर नजर

Home » डोटासरा बोले- हमारे नेता बीजेपी जाते ही खरा-सोना हो जाते : कहा- सिंधिया-जाखड़ कांग्रेस में थे तो वंशवाद था, बीजेपी जाते ही परिवारवाद से मुक्त

डोटासरा बोले- हमारे नेता बीजेपी जाते ही खरा-सोना हो जाते : कहा- सिंधिया-जाखड़ कांग्रेस में थे तो वंशवाद था, बीजेपी जाते ही परिवारवाद से मुक्त

Spread the love

डोटासरा बोले- हमारे नेता बीजेपी जाते ही खरा-सोना हो जाते : कहा- सिंधिया-जाखड़ कांग्रेस में थे तो वंशवाद था, बीजेपी जाते ही परिवारवाद से मुक्त
जयपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वंशवादी और परिवारवादी पार्टियों से लड़ने के बयान पर अब सियासी वार पलटवार शुरू हो गया है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने वंशवाद और परिवारवाद के लेकर बीजेपी पर हमला बोला है। डोटासरा ने कहा- कल प्रधानमंत्री वंशवाद की बात बोल रहे थे। दीप्ति महेश्वरी को टिकट किसने दिया। वसुंधरा जी और उनके बेटे को टिकट किसने दिया। राजनाथ सिंह के बेटे को टिकट किसने दिया। फिर यह वंशवाद और युवाओं की बात करते हैं। हमारे यहां रिजेक्ट किए हुए वहां जाकर खरा सोना हो गए। 24 कैरेट सोना हो गए। उनके यहां जाते ही वंशवाद का आरोप खत्म हो गया। डोटासरा प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मीडिया से बातचीत कर रहे थे।
डोटासरा ने कहा- सिंधिया जी जब कांग्रेस में थे तब तो वंशवाद था, उनके यहां बीजेपी में जगह तो ठीक हो गए। सुनील जाखड़ बलराम जाखड़ के बेटे हैं, जब तक कांग्रेस में थे तब तक तो वंशवाद की परिभाषा में आ रहे थे और अब उनके यहां चले गए तो वंशवाद की परिभाषा से बाहर हो गए। किसी को भी उठा कर देख लीजिए। आरपीएन सिंह, जतिन प्रसाद क्या हैं, वह कांग्रेस में थे तब तो कहते थे कि नेताओं के बेटे हैं, उन्हें आगे बढ़ा रहे हैं। दूसरों को मौका नहीं मिलता। हमारे रिजेक्ट किए हुए उनके यहां जो वंशवाद कांग्रेस के लिए बता रहे थे वह वहां जाकर खरा सोना हो गए, 24 कैरेट का सोना हो गए, उनके यहां जाते ही वंशवाद का आरोप खत्म हो गया ।
बीजेपी ने नेताओं के बेटे बेटियों को टिकट दिए
डोटासरा ने कहा- बीजेपी वाले 70 से 75 साल वालों को बाहर करने की और युवाओं की बात करते हैं। कैलाश मेघवाल कितने साल के हैं, 85 साल के हैं। सूर्यकांता व्यास कितने साल की हैं। इनकी कथनी और करनी में अंतर है। ये देश के मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए ऐसी बात करते हैं। उनकी कथनी और करनी में फर्क है अभी उपचुनाव में ही तो दीप्ति माहेश्वरी को टिकट दिया था। कन्हैयालाल मीणा को नहीं दिया क्योंकि वह वसुंधरा राजे का समर्थक था इसलिए उनको नहीं दिया। अब इनका रंग उतर गया है, दो साल बाद इनका पता नहीं चलेगा।
बीजेपी वाले 85 साल वालों को टिकट देती है और युवाओं की बात करती है
डोटासरा ने कहा- इनकी कोई आईडियोलॉजी नहीं है। कौन सी पार्टी यह नहीं कहती है कि नए लोगों को जोड़ना चाहिए। राहुल गांधी ने तो हमेशा का है नई लीडरशिप को आगे लाना चाहिए। कांग्रेस पार्टी ने 50% सीडब्ल्यूसी से लेकर नीचे तक शामिल कराने का फैसला लिया है। ऐसा फैसला कोई ले नहीं सकता। यह 70 साल की बात करने वाले 85 साल के लोगों को टिकट देते हैं यह केवल अपने लोगों को जुड़ना चाहते हैं।

You may have missed