KAL KA SAMRAT NEWS INDIA

हर नजरिए की खबर, हर खबर पर नजर

Home » दादू दयाल जी की पुण्यतिथि आज

दादू दयाल जी की पुण्यतिथि आज

Spread the love

श्री दादू दयाल जी की पुण्यतिथि आज


दादू दयाल हिंदू समुदाय के प्रमुख संतों में से एक हैं। उनके हिंदू समुदायों के लिए की गई महान सेवा के उपलक्ष्य में श्री दादू दयाल पुण्यतिथि मनाई जाती है। गुजरात में जन्मे महान संत दादू दयाल आजीविका की तलाश में बचपन में ही राजस्थान के जयपुर चले गए थे। दादू दयाल जी का जन्म 1544 के वर्ष में हुआ था और वह 59 वर्षों तक जीवित रहे, जिसके बाद 1603 में उन्होंने एक महान विरासत को छोड़कर स्वर्ग में निवास कर लिया। जयपुर के इस महान गुजराती संत का प्रभाव इतना था कि दादू पंथ के नाम से एक अलग समूह भी उनके अनुयायियों ने बनाया था।

दादू दयाल जी की कथा

================

दादू दयाल इतने प्रसिद्ध संत हैं कि उनकी वाणी ने अनगिनत लोगों को प्रेरणा दी है। संत होने से पहले उनकी एक दुकान हुआ करती थी। उसी से उनकी गुजर-बसर होती थी। एक बार ऐसी घटनी हुई कि उनका जीवन ही बदल गया। एक दिन वह जब अपनी दुकान पर बैठे हिसाब कर रहे थे। बाहर बारिश हो रही थी, लेकिन वह हिसाब में इतने लीन थे कि उन्हें इसका पता ही नहीं चला संयोग से एक साधु आ गए और उनकी दुकान के सामने पानी में भीगते खड़े हो गए। दादू दयाल अपने काम में तल्लीन रहे। जब हिसाब पूरा हो गया तो उन्होंने नजर उठाकर देखी। बारिश में साधु को भीगते देख उन्हें काफी दुख पहुंचा। वे तत्काल उठकर गए और साधु से क्षमा मांगी। दादु दयाल ने पूछा, महात्मा जी आप यहां कब से खड़े हैं। तब साधु ने कहा, मुझे तो यहां खड़े हुए काफी देर हो गई है। लेकिन, मेरी कोई बात नहीं, तुम्हारे दरवाजे पर एक और खड़ा है। दादू दयाल ने पूछा, ‘कौन’ ? ईश्वर साधु ने प्रसन्न होकर कहा। वह न जाने कब से खड़ा है और तुम्हें पुकार रहा है। अब भी वह तुम्हारी राह देख रहा है।’

इतना सुनते ही दादू दयाल का शरीर कांप उठा। उन्होंने अनुभव किया कि साधु जो कह रहे थे, वह सत्य था। सचमुच ईश्वर उनके सामने खड़े हुए थे और इस तरह से उनके जीवन की धारा बदल गई और वह दादू दयाल से संत दादू दयाल बन गए और लोगों को सत्य की राह पर चलने के लिए प्रेरित करते रहे।

दादू पंथ का हिंदू उपासकों पर महान प्रभाव

==========================

हिंदू धर्म ने भारत में अपनी गहरी जड़ें जमा ली हैं, जहां कई संतों ने लोगों और संस्कृति पर अपनी अलग छाप छोड़ी है। संत दादू दयाल जी राजस्थान के सबसे प्रतिष्ठित संतों में से एक हुए, जो भगवान के सम्मान में कई मधुर भजनों और प्रशंसनीय गीतों को गाने के लिए जाने जाते हैं। दादू दयाल को उन सेवाओं के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है जो उन्होंने अपने अनोखे अंदाज में पूरे हिंदू समाज को प्रदान कीं। दादू दयाल पुण्य तीथी देश भर के हिंदुओं पर एक महान धार्मिक और पारंपरिक प्रभाव का प्रतीक है। दादू दयाल विशेष रूप से अपनी अमूल्य शिक्षाओं के लिए प्रसिद्ध हैं, जिसके माध्यम से वे हिंदू समाज की सेवा करने में सक्षम थे। भले ही कई सदियां बीत चुकी हों, लेकिन लोग आज भी उन्हें भारत के महानतम संतों में से एक मानते हुए उच्च सम्मान में हैं।

राजेन्द्र गुप्ता,

ज्योतिषी और हस्तरेखाविद

मो. 9611312076

नोट- अगर आप अपना भविष्य जानना चाहते हैं तो ऊपर दिए गए मोबाइल नंबर पर कॉल करके या व्हाट्स एप पर मैसेज भेजकर पहले शर्तें जान लेवें, इसी के बाद अपनी बर्थ डिटेल और हैंडप्रिंट्स भेजें।

You may have missed