KAL KA SAMRAT NEWS INDIA

हर नजरिए की खबर, हर खबर पर नजर

Home » राजस्थान अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री बैरवा ने ली समीक्षा बैठक
Spread the love

राजस्थान अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री बैरवा ने ली समीक्षा बैठक
जिले में हुए कार्यों के प्रति जताया संतोष, की सराहना
अजमेर, 04 जुलाई। राजस्थान अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री खिलाड़ी लाल बैरवा ने सोमवार को जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक में अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों को लाभान्वित करने के लिए पूर्व में दिए गए निर्देशों के अनुसार किए गए कार्यों की प्रगति की समीक्षा के दौरान संतोष व्यक्त किया तथा कार्यों की सराहना की। जिला कलक्टर श्री अंश दीप ने जिले में अनुसूचित जाति वर्ग से सम्बन्धित योजनाओं की जानकारी से अवगत कराया।
राजस्थान अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री खिलाड़ी लाल बैरवा ने जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। इसमें आयोग द्वारा पूर्व में दिए निर्देशों की पालना के सम्बन्ध में चर्चा की गई। निर्देशों के अनुसार कार्य करने पर समस्त विभागों की सराहना की गई। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ अनुसूचित जाति वर्ग के प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचना चाहिए। अनुसचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम में दर्ज प्रकरणों पर प्राथमिकता के साथ कार्य करने के निर्देश दिए गए। पुलिस विभाग के अधिकारियों को प्राथमिकी दर्ज करने के साथ ही धारा 164 के अनुसार बयान लेने तथा उसकी विडियोग्राफी कराने के निर्देश दिए। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उपनिदेशक श्री प्रफुल्ल चंद्र चौबीसा ने अवगत कराया कि विशेष अभियान चलाकर नवजीवन योजना के लिए पात्र व्यक्तियों का चिन्हीकरण किया गया। इन व्यक्तियों को प्रशिक्षित करके स्वरोगजगार आरम्भ करवाया जाएगा।
उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्ति के नाम दर्ज भूमि पर अन्य वर्ग के व्यक्ति का कब्जा छुड़वाने के लिए तत्काल प्रभाव से कार्यवाही की जाए। इस सम्बन्ध में आमजन में विशेष जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है। इस प्रकार की भूमि पर कब्जे के सम्बन्ध में स्थानीय जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय में व्यक्ति दस्तावेजों के साथ अपनी परिवेदना प्रस्तुत कर सकते है। अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों के साथ किए जाने वाले अपराधों पर तत्काल प्रभाव पर कार्यवाही सुनिश्चित की जानी चाहिए। इससे इस प्रकार के साथ होने वाले अपराधों पर अंकुश लगेगा।
उन्होंने विभिन्न विभागों के कार्यों की समीक्षा के दौरान अनुसूचित जाति वर्ग के लिए संचालित योजनाओं से व्यक्तियों को लाभान्वित करने के निर्देश दिए। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के छात्रावासों का जिला स्तरीय एवं उपखण्ड स्तरीय अधिकारियों द्वारा नियमित निरीक्षण किया जाना चाहिए।अनुसूचित जाति आयोग को प्राप्त परिवेदनाओं के निस्तारण के लिए विचार विमर्श किया गया। नगर निगम में 498 सफाई कर्मियों की भर्ती तथा 2018 में सफाई कर्मियों की भर्ती के प्रकरणों पर भी विस्तार से चर्चा की गई।
उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति जनजाति विकास निगम के माध्यम से दिए जाने वाले ऋणों पर बैंकों द्वारा संवेदनशीलता के साथ कार्य करना चाहिए। प्राप्त शत प्रतिशत आवेदनों को निर्धारित समयावधि में निस्तारित कर ऋण उपलब्ध कराने से वंचित वर्ग का आर्थिक उन्नयन होगा। जिले में स्थित बैंकों की प्रत्येक शाखा को कम से कम 2 एससी वर्ग के व्यक्ति्तयों को ऋण अवश्य देना चाहिए। कृषि, उद्यानिकी, विद्युत, शिक्षा, रसद, नगरीय निकायों की योजनाओं में भी अनुसूचित जाति वर्ग को प्राथमिकता के साथ लाभान्वित किया जाना चाहिए। बैठक से पूर्व श्री बैरवा ने सर्किट हाउस में सामाजिक संस्थाओं एवं अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों के साथ चर्चा की।
इस अवसर पर अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य श्री प्रताप यादव, अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री कैलाश चंद्र शर्मा एवं भावना गर्ग, जिला रसद अधिकारी श्री हेमन्त स्वरूप माथुर एवं श्री विनय कुमार शर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री रामअवतार , नगर निगम उपायुक्त सीता वर्मा, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उपनिदेशक श्री प्रफुल्ल चंद्र चौबीसा, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.एस. जोधा, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी श्री धर्मेन्द्र जाटव, पूर्व महापौर श्री कमल बाकोलिया सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

You may have missed