KAL KA SAMRAT NEWS INDIA

हर नजरिए की खबर, हर खबर पर नजर

Home » प्रधानमंत्री फ़सल बीमा योजना को लेकर पंथ कृषि भवन जयपुर में बैठक हुई
Spread the love


03 अगस्त 2022
प्रधानमंत्री फ़सल बीमा योजना को लेकर पंथ कृषि भवन जयपुर में बैठक हुई

कृषि आयुक्तालय में किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट के नेतृत्व में प्रधानमंत्री फ़सल बीमा योजना को लेकर कृषि आयुक्त कानाराम जाट के साथ बैठक हुई।

आयुक्त के समक्ष किसान महापंचायत के प्रतिनिधि मंडल ने किसानो का पक्ष रखते हुए बताया कि टोंक जिले में किसानों को फसल बीमा काटकर के उपरांत फसल नुकसान का मुआवजा नहीं मिल रहा है ।
1.
वर्ष 2020 खरीफ में आपदा द्वारा संपूर्ण फ़सल पानी से गलकर समाप्त हो गई।
किसान द्वारा टोल फ्री नंबर पर शिकायत दर्ज कराई परन्तु मुआवजा नहीं मिला किसान बैंक व कृषि अधिकारियों के चक्कर लगा-लगाकर थक चुके।
2.
दूसरा उदाहरण टोंक गोपी लाल जाट के खाते से भारतीय स्टेट बैंक द्वारा 31जुलाई 2021 को किसान के हिस्से के 1800 रुपए प्रधानमंत्री फ़सल बीमा योजना के नाम पर काट लिया। बैंक ने बीमा कम्पनी को पैसा भेजा ही नहीं किसान की फ़सल अतिवृष्टि के कारण जल मग्न हो गई नुकसान की भरपाई कौन करें।
3.तीसरा उदाहरण रमा पत्नी जालूराम डोडवाडिया नागोर का फ़सल बीमा योजना द्वारा बीमा हों गया टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर पर शिकायत दर्ज कराई तों कम्पनी सर्वेयर ने फसल ही बदल दी। फ़सल बदलने के कारण किसान को फ़सल नुकसान का मुआवजा नहीं मिला।
4.उदाहरण गौरीशंकर मालू द्वारा चना, धान मे लगने वालें उकटा रोग व किसान के खेत में दुर्घटना से लगने वाली आगे को भी फ़सल बीमा योजना में कवर किया जाये ।

5.
नन्दलाल मीना ने बताया कि दूदू सर्किल में 80% मूंग की फ़सल ली जाती है।
उसमें से बैंक द्वारा 50% में बाजरा बता दिया जाता है।

  1. रामेश्वर प्रसाद चौधरी ने बताया कि किसानों का बीमा दो जगह होता है एक बैंक द्वारा किया जाता है दूसरा कापरेटिव सोसायटी द्वारा भी उन्हीं किसानों के उन्हीं खातों का दो बार बीमा हों रहा है।

रामपाल जाट ने कृषि आयुक्त को बताया यह तों मात्र एक – एक उदाहरण आपके समक्ष प्रस्तुत किया गया है किसान का प्रिमियम कटने पर उसे पोलिसी, मैसेज,तक के माध्यम से भी जानकारी नहीं दी जा रही।
एक खसरा का दोबारा बीमा होना गलत है।
खतो में रखी फ़सल जल जाती है उसका मुआवजा नहीं दिया जाता फ़सल बीमा में कवर में सामिल करने के लिए केन्द्र सरकार को लिखें।
विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया।
आयुक्त ने मुकेश कुमार माथुर संयुक्त निदेशक ( फसल) को आदेशित किया विचार पूर्व प्रतिनिधि मंडल की बातों का अध्ययन करके हुए राहत की कोशिश करेंगे।आर टी आई एक्सपर्ट गौरीशंकर मालू,
किसान महापंचायत प्रदेश मंत्री बत्ती लाल बैरवा, युवा प्रदेशाध्यक्ष रामेश्वर प्रसाद चौधरी, जयपुर महामंत्री नन्दलाल मीना,विधानसभा संयोजक रामगोपाल गुर्जर, फुलेरा साम्भर अध्यक्ष जालूराम डोडवाडिया, पीपलू अध्यक्ष गोपीलाल जाट, आदि मौजूद रहे।

You may have missed