KAL KA SAMRAT NEWS INDIA

हर नजरिए की खबर, हर खबर पर नजर

Home » आखिर रंग लाई आनासागर को बचाने की भारतीय पब्लिक लेबर पार्टी के अध्यक्ष बाबूलाल साहू की मुहिम

आखिर रंग लाई आनासागर को बचाने की भारतीय पब्लिक लेबर पार्टी के अध्यक्ष बाबूलाल साहू की मुहिम

Spread the love

आनासागर झील अजमेर के पर्यावरणप्रेमी के लिए खुशखबरी,

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल मैं हमारे द्वारा ट्रिब्यूनल के प्रिंसिपल बेंच नई दिल्ली में दायर याचिका माननीय न्यायाधिपति न्यायाधीश चेयरमैन साहब के निर्देशानुसार भोपाल बेंच ट्रिब्यूनल कोर्ट द्वारा आनासागर को बचाने की प्रार्थना स्वीकार कर ली गई है,
इस संदर्भ में आनासागर को बचाने बाबत
राष्ट्रीय हरित आयोग नेशनल द्वारा,
राजस्थान सरकार को व्यक्तिगत पार्टी बनाते हुए,
मुख्य सचिव राजस्थान सरकार
मुख्य सचिव, राजस्थान सरकार पोलूशन कंट्रोल बोर्ड
  
आयुक्त, राजस्थान स्टेट वेटलैंड अथॉरिटी
आयुक्त राजस्थान राज्य भू-संपदा
जिला कलेक्टर अजमेर
मुख्य कार्यकारी अधिकारी नगर निगम अजमेर,  

को नोटिस जारी करने के आदेश हो गए हैं ,
और उन्हें व्यक्तिगत जवाब हलफनामा पेश करने की 
7 दिसंबर 2022 रखी गई है,
आनासागर झील की हो रही दुर्दशा के संदर्भ में भारतीय पब्लिक लेबर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बाबूलाल साहू द्वारा नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल नई दिल्ली स्थित मुख्यालय में मुख्य बेंच के माननीय चेयरमैन श्री श्रीमान आदर्श कुमार गोयल को आनासागर झील की हो रही दुर्दशा के संदर्भ में भेजी शिकायत याचिका के आधार पर केस दर्ज करते हुए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के भोपाल जोन मैं नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के माननीय न्यायाधिपथी न्यायाधीश श्रीमान अरुण कुमार त्यागी एवं ट्रिब्यूनल के न्यायाधिपथी माननीय न्यायाधीश डॉ. अफरोज अहमद जोकि ट्रिब्यूनल के एक्सपर्ट सदस्य मेंबर है कि बेंच (कोर्ट) द्वारा उपरोक्त प्रकरण की सुनवाई तथा कार्यवाही संपादित की जाएगी
उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन अजमेर के द्वारा जनकोष की करोड़ों रुपए राशि खर्च करने के बाद भी आनासागर झील की हो रही दुर्दशा, दुर्गंध युक्त वातावरण  जिससे आसपास के क्षेत्र के लोगों के दुर्गंध युक्त आबोहवा के कारण हो रही परेशानी तथा
आनासागर झील में अतिक्रमण, तथा आनासागर झील के केचमेंट एरिया में भू-माफियाओं द्वारा झील के पानी को पाटकर एवं मिट्टी भरकर,
जमीन पर, प्लॉट काटकर, मकान, होटल, गेस्ट हाउस, बनाकर आनासागर केचमेंट एरिया की धड़ल्ले से बेची जा रही जमीन आदि  बाबत और जिला प्रशासन एवं  स्मार्ट सिटी अजमेर के कर्ता-धर्ता अधिकारियों के द्वारा नियमों के विपरीत बनाए गए पाथवे एवं आनासागर झील में बनाए गए  कृतिम टापू  तथा अतिक्रमण को लेकर तथा सन, वर्ष 1975 तक सिंचाई विभाग अजमेर आनासागर झील के पानी की फैलाव, लंबाई, चौड़ाई सीमा रिकॉर्ड तथा थोक तेलीयान अजमेर, तहसीलदार, की गिरदावर रिपोर्ट एवं नगर परिषद अजमेर मैं दर्ज  सीमांकन रिकॉर्ड के अनुसार आनासागर झील की पूर्व की स्थिति में पुनः वापस बहाल कराने बाबत पेश की शिकायत के संदर्भ में उपरोक्त प्रकरण को दर्ज कर मामले की सुनवाई कर कार्रवाई संपादित की जा रही है

You may have missed