29 March 2023

KAL KA SAMRAT NEWS INDIA

हर नजरिए की खबर, हर खबर पर नजर

Home » SBI ही नहीं LIC भी डूबेगी और डूबी तो हम और आप भी डूबेंगे: पूरी जानकारी सरल शब्दों में।

SBI ही नहीं LIC भी डूबेगी और डूबी तो हम और आप भी डूबेंगे: पूरी जानकारी सरल शब्दों में।

Spread the love

SBI ही नहीं LIC भी डूबेगी और डूबी तो हम और आप भी डूबेंगे: पूरी जानकारी सरल शब्दों में।

अगर अडानी को चलना SBI ने सिखाया तो दौड़ाने का श्रेय LIC को जाता है।

क्या आपने कभी सोचा आपने LIC से एक लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी ली उसके बदले आपने उन्हें पैसे दिए, LIC उन पैसों का क्या करती है?
SBI ने तो सीधा सीधा कर्ज़ दिया है अडानी को। अडानी पर कुल कर्जा 2लाख करोड़ है उसमें से 81000 करोड़ भारतीय बैंकों का है। हालांकि SBI ने कभी नहीं बताया कि उसने अडानी जी को कितना कर्जा दिया है।

LIC सरकारी कंपनी है, इसकी 90% हिस्सेदारी सरकार के पास है, यानी जो सरकार कहेगी वही LIC को करना पड़ेगा। LIC आपसे लिया हुआ पैसा शेयर मार्केट में लगाती है। शेयर मार्केट में तो सैकड़ों कंपनी हैं, सितंबर 2022 में LIC ने 105 कंपनियों के शेयर से अपना पैसा निकाल लिया था और वहीं अडानी के शेयर में LIC ने पिछले 2 साल में 6 गुना तक पैसा ज़्यादा लगाया है। अडानी के शेयर दो साल में ही बहुत ज़्यादा बढ़े हैं इसलिए अचानक से गिरने का भी खतरा रहता है यही कारण है कि हर कम्पनी अडानी के शेयर में पैसा नहीं लगाना चाहती, मगर LIC ने आँखें मूंद कर पैसे लगाए। हिन्डेनबर्ग की रिपॉर्ट से पहले LIC का अडानी की कंपनियों में 81000 करोड़ का इन्वेस्टमेंट था अब 62000 करोड़ बचा है। यानी लगभग 18000 करोड़ का दो दिन में घाटा। ये पैसा न तो अडानी का है और न ही सरकार का। ये पैसा आपका और हमारा है। 81000 करोड़ बैंकों का लोन और इतना ही LIC का इन्वेस्टमेंट। ये सब सफ़ाया होने की कगार पर है। आपको चिंता नहीं होनी चाहिए क्योंकि मुग़ल गार्डन का नाम बदल दिया गया है।