KAL KA SAMRAT NEWS INDIA

हर नजरिए की खबर, हर खबर पर नजर

Home » अजमेर जिले को डेनमार्क की तर्ज पर दुग्ध उत्पादन का हब बनाने की जोरदार कवायद

अजमेर जिले को डेनमार्क की तर्ज पर दुग्ध उत्पादन का हब बनाने की जोरदार कवायद

Spread the love

अजमेर डेयरी
एक अप्रेल से बढ़ेगा दूध का खरीद मूल्य
अजमेर 14 मार्च।अजमेर डेयरी द्वारा पशुपालकों के हित में निर्णय लेते हुए एक अप्रेल से दूध के खरीद मूल्य में बढ़ोतरी की गई है। अब पशुपालकों के लिए 9.05 रूपये के अनुसार प्रति फेट मूल्य निर्धारित होगा।
अजमेर डेयरी के अध्यक्ष श्री रामचन्द्र चौधरी ने बताया कि दूध उत्पादक संघ पशुपालकों तथा उपभोक्ताओं के हितों पर विशेष ध्यान देता आया है। पशु आहार, चारा एवं कुट्टी के भाव बढ़ने से पशुपालकों के लिए दुग्ध उत्पादन में कम बचत हो रही थी। इसको ध्यान में रखते हुए अजमेर डेयरी के खरीद मूल्य में बढ़ोतरी की गई है। पशुपालकों के लिए 9.05 रूपये प्रति फेट की दर निर्धारित की गई है। इसमें से 5 पैसा हिस्सा राशि के रूप में अजमेर डेयरी के पास जमा होगा। इस हिस्सा राशि से अजमेर डेयरी द्वारा एक फण्ड बनाया जाएगा। इस प्रकार से छः वर्ष पूर्व भी 50 करोड़ की हिस्सा राशि बनाई गई थी। इसका उपयोग नए प्लाण्ट के निर्माण में किया गया था।
उन्होंने बताया कि वर्तमान में सरकार द्वारा मिडडे मील के अन्तर्गत दूध दिया जा रहा है। अजमेर डेयरी द्वारा सीकर, टोंक, अजमेर, पाली, जोधपुर एवं झुंझुनू जिलों के लिए आवश्यक दुग्ध उत्पाद उपलब्ध करवाए जा रहे है। इसके लिए दूध की अतिरिक्त आवश्यकता है। इसे पूरा करने के लिए पशु पालकों से और अधिक दूध सग्रहित किया जाएगा। दुग्ध संग्रहण को बढ़ाने के लिए अजमेर डेयरी द्वारा खरीद मूल्य में बढ़ोतरी की गई है। इससे पशुपालकों को लाभ होगा।
उन्होंने बताया कि अजमेर जिले को डेनमार्क की तर्ज पर दुग्ध उत्पादन का हब बनाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। आगामी छः माह में पशुपालकों को एक लाख पशु खरीदने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। ये पशु पंजाब, हरियाणा एवं गुजरात से खरीदवाने का मानस है। इसके लिए अजमेर डेयरी एवं बैंकों का सहयोग मिलेगा। बैंकाें द्वारा पशु खरीदने के लिए दिए जाने वाले ब्याज में से चार प्रतिशत अधिक की राशि अजमेर डेयरी द्वारा वहन की जाएगी। स्थानीय दुग्ध उत्पादक सरकारी समिति के माध्यम से बैंक गारण्टी दिलवाई जाएगी। इस प्रकार की सहायता प्राप्त करने वाले पशु पालक पशु को लम्बे समय तक अपने पास रखेंगे। साथ ही उत्पादित दूध अजमेर डेयरी को देंगे। इन पशुओं का बीमा करवाया जाएगा। बीमे के प्रीमियम का कुछ भाग अजमेर डेयरी द्वारा भी वहन होगा।
उन्होंने बताया कि अप्रेल माह में पशुपालकों का बडा सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। इसमें सॉफ्ट लोन के सम्बन्ध में जानकारी प्रदान की जाएगी। लम्पी बीमारी से पशुपालकों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए सरकार से अपेक्षा है। लम्पी बीमारी के नए केस आने की स्थिति में अजमेर डेयरी एक सप्ताह में पूरे जिले के पशुओं का टीकाकरण करने में सक्षम है।
उन्होंने बताया कि 16 से 18 मार्च तक गांधी नगर में 49वीं डेयरी उद्योग कॉनफ्रेंस का आयोजन किया जाएगा। इसमें अजमेर डेयरी के 15 प्रतिनिधि भाग लेंगे। इसके शुभारम्भ सत्र में डेयरी उद्योग की नीति सम्बन्धी वार्ता में श्री रामचन्द्र चौधरी का उद्बोधन होगा।

Skip to content